LOADING

Type to search

BLOG HINDI NEWS VIDEO

रंगत पंचायत क्षेत्र मे खुली नाली के वजह से आस पास के लोगो को दुर्घटना का डर।

Pankaj July 18, 2022
Share

आक्सर देखा जाए तो नाली का ढक्कन खुला होना एक आम बात है, क्योंकी किसी भी क्षेत्र मे गंदा पानी निकासी के लिए बहुत सारे नालीयां बनाया जाता है।  और हर समय उसका देख रखाव करना मुश्किल होता है।  तो कभि उन नालीयों का ढक्कन सरक कर या टूट जाने के वजह से नाली खुल जाता है।  अक्सर नालीयां आवा जाही रास्तो से थोड़ा हटकर या थोड़ा उंचा करके बनाया जाता है , ताकी लोगो को परेसानी न हो।

कभी कभार नालीयों का निरमाण ऐसा किया जाता है की उसका इस्तेमाल आवा जाही के लिए भी किया जा सके।  उसमे निचे नाली बहती है और नाली को पत्थर के पट्टियों से पुरी तरह से ढक दिया जाता है जिससे वो पट्टियां आवा जाही के लिए इस्तेमाल हो सके।  इस तरह की नालीयों का नियमीत रुप से रख रखाव बहुत जरुरी होता है क्योंकी अगर नाली के उपर की पट्टियों का छती पहुंचने के वजह से अगर नालीयां खुल गया तो दुर्घटना का आसंका होता है। लोग आवा जाही करते हुए उन नालियों मे गिर सकते है।

ऐसा ही एक रंगत क्षेत्र के नाली के बारे मे बताने जा रहा हुं जिसे ऐसा फुट्पाथ के साथ जोड़कर बनाया गया की जिससे रासता चौड़ा हो सके और लोग उस नाली के उपर से भी आवा जाही कर सके।

लेकिन नियमीत रख रखाव न  होने के कारण उस नाली के पट्टियां कुछ जगह सरक गया है या टूट गया है जिससे जो नाली लोगो के सहुलियत के लिए होना चाहिए था अब वो खतरनाक साबित हो रहा है।  और ये हालात कुछ महिनो से नही है बलकी कई सालो से है।  लेकिन न तो उसका मरम्मत करवाया गया न तो साफ सफाई।  बस आस पास वालो ने अपनी सुरछा के खातिर कुछ जगह टीन से ढक दिया।

सुत्रो से पता चला है की वो नाली और फुटपाथ पंचायत समिती के अंतरगत बनाया गया है और उसे समरपीत भी नही किया गया , जिससे किसी दुसरे विभाग ने रख रखाव पर अपना कोइ योगदान नही दिया।  लेकिन वजह कुछ भी हो खतरा या दुर्घटना किसी अधिकारी या औपचारिकताओं का इंतेजार नही करता।  और इसे इतने सालो तक अपने आप मे छोड़ देना ठिक नही है।  और उपर से उस गली मे रात को स्ट्रीट लाइट का नही जलना इसे और भी खतरनाक बना जाता है और लापरवाही दरसाता है।

अधीक जानकारी के लिए कृपया निचे दिए विडीयो देखे।

 

Please subscribe our Eviland Youtube Channel : https://www.youtube.com/c/Eviland5

 

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *